प्रजनन जागरूकता के तरीके

प्रजनन जागरूकता के तरीके
प्रजनन जागरूकता के तरीके

प्रजनन जागरूकता के तरीके क्या हैं?

प्रजनन जागरूकता तरीके, जिन्हें “प्राकृतिक परिवार नियोजन,” “ताल विधि,” या “आवधिक संयम” के रूप में भी जाना जाता है, यह गर्भनिरोधक का एक रूप है जिसके लिए आपको गर्भवती होने के दिनों को निर्धारित करने के लिए अपने मासिक धर्म चक्र पर नज़र रखने की आवश्यकता होती है। आपको किसी उपकरण या दवा का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है। प्रजनन जागरूकता के ऐसे तरीके हैं जिनका उपयोग आपकी जननक्षम अवधि की शुरुआत और अंत का पता करने के लिए अकेले या संयोजन में किया जा सकता है (1)।

प्रजनन जागरूकता-आधारित तरीके आपको यह अनुमान लगाने में मदद करते हैं कि आपके गर्भवती होने की संभावना कब है (आपके जननक्षम दिन) और वे उन दिनों में असुरक्षित योनि सेक्स से बचने पर आप पर भरोसा करते हैं। इन विधियों के लिए आपको अपने शरीर में होने वाले परिवर्तनों के प्रति जागरूक रहना होगा या अपनी चुनी हुई विधि के विशिष्ट नियमों के आधार पर दिनों का ध्यान रखना होगा (2)।

आप अपने मासिक धर्म चक्र के जननक्षम समय के दौरान गर्भवती हो सकती हैं, जो अक्सर आठ से नौ दिनों के बीच रह सकता है। इस जननक्षम समय के दौरान, अंडाशय से एक अंडा निकलता है (एक प्रक्रिया जिसे ओव्यूलेशन कहा जाता है) और 24 घंटे तक जीवित रह सकता है। हालाँकि, शुक्राणु आपके प्रजनन तंत्र के अंदर सात दिनों तक जीवित रह सकते हैं। यदि अंडा जारी होने पर शुक्राणु मौजूद है, तो शुक्राणु और अंडाणु जुड़ सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप गर्भावस्था हो सकती है। यह जानना महत्वपूर्ण है कि यदि आप ओव्यूलेशन से सात दिन पहले तक असुरक्षित यौन संबंध बनाते हैं, तो भी गर्भवती होना संभव है (3)।

प्रजनन जागरूकता-आधारित विधियाँ सरल हैं। आप अपने मासिक धर्म चक्र पर नज़र रखें और उन दिनों में सेक्स न करें जब आप गर्भवती हो सकती हैं। यदि आप उन दिनों सेक्स करते हैं, तो वैकल्पिक विधि का उपयोग करें, जैसे कंडोम – बाह्य या आंतरिक – या डायाफ्राम

प्रजनन जागरूकता के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

ऐसे कई तरीके हैं जिनका उपयोग आप अपनी प्रजनन क्षमता की निगरानी करने और अपने चक्र के भीतर उन दिनों को निर्धारित करने के लिए कर सकते हैं जब आप गर्भवती हो सकती हैं। आप अपने मासिक धर्म चक्र में कहां हैं इसकी गणना करने के लिए आपको अपने शरीर में होने वाले परिवर्तनों का निरीक्षण करना होगा। इसके लिए बहुत प्रयास और प्रतिबद्धता की आवश्यकता होगी। इस तरीके को चुनने से पहले, सुनिश्चित करें कि आप समझ गये हो कि आपको क्या करने की आवश्यकता है। हर महीने सात दिनों तक सेक्स न करने या उन दिनों दूसरी विधि का उपयोग करने के लिए तैयार रहें।

प्रजनन क्षमता-आधारित तरीकों को कैलेंडर- और लक्षण-आधारित तरीकों (4) में वर्गीकृत किया गया है।

कैलेंडर पर-आधारित तरीके

कैलेंडर-आधारित तरीकों के लिए आपको अपने मासिक धर्म चक्र पर नज़र रखने और अपने जननक्षम दिनों की शुरुआत और अंत की पहचान करने की आवश्यकता होती है।

कैलेंडर पर-आधारित तरीके:

कैलेंडर ताल तरीका। कैलेंडर ताल तरीका कई महीनों तक आपके मासिक धर्म चक्र का अध्ययन करके आपके जननक्षम दिनों की भविष्यवाणी करने में मदद करती है। आपके मासिक धर्म के पहले दिन से एक चक्र शुरू होता है, और यही वह समय होता है जब आप गिनती शुरू करती हैं। अपने जननक्षम दिनों को निर्धारित करने के लिए, आपको इस तरीके का उपयोग करने से पहले कम से कम 6-12 अवधियों को रिकॉर्ड करना चाहिए, फिर प्रत्येक मासिक धर्म चक्र के पहले दिन के बीच के दिनों की गिनती करनी चाहिए।

अपनी जननक्षम अवधि की शुरुआत निर्धारित करने के लिए, अपने सबसे छोटे चक्र की अवधि से 20 दिन घटाएं। अपनी जननक्षम अवधि का अंत निर्धारित करने के लिए, सबसे लंबे चक्र की अवधि से 10 दिन घटाएं। आपको अपनी जननक्षम अवधि के दौरान असुरक्षित यौन संबंध बनाने से बचना चाहिए (5)।

आप किसी मेमोरी सहायता का उपयोग कर सकते हैं, जैसे कि पीरियड ऐप या मासिक धर्म चक्र, या बस अपने सामान्य कैलेंडर पर अपने पीरियड के दिनों को चिह्नित कर सकते हैं।

यदि आपके मासिक धर्म चक्र के बीच का समय 27 दिनों से कम है, तो यह विधि आपके लिए अनुशंसित नहीं की जाती है। इसका उपयोग केवल वही महिलाएं कर सकती हैं जिनका मासिक धर्म नियमित हो।

स्टैंडर्ड डेज मैथड (एसडीएम)। यह तरीका उन महिलाओं के लिए अनुशंसित की जाती है जिनका मासिक धर्म चक्र 26 से 32 दिनों के बीच है। आपको अपने चक्र के दिनों का ध्यान रखना होगा और अपने चक्र के 8वें से 19वें दिन तक असुरक्षित यौन संबंध बनाने से बचना होगा। कुछ महिलाएं अपने मासिक धर्म चक्र का पता करने के लिए रंगीन मोतियों (जैसे साइकिलबीड्स) का उपयोग करती हैं, सफेद मोती असुरक्षित यौन संबंध (जननक्षम दिन) से बचने के लिए दिनों का संकेत देती हैं या अतिरिक्त तरीके (6) का उपयोग करती हैं।

मोतियों का उपयोग करके अपने चक्र का कैसे पता करें

लक्षण पर-आधारित तरीके

लक्षण पर-आधारित तरीके जननक्षमता के संकेतों, जैसे गर्भाशय ग्रीवा स्राव और शरीर के बुनियादी तापमान, के अवलोकन के इर्द-गिर्द घूमती हैं। फिर आपको उन दिनों में सेक्स से बचना होगा जब ये लक्षण स्पष्ट हों। इन तरीकों में शामिल हैं

टू डे मैथड (टीडीएम)। आप यह निर्धारित करने के लिए हर दिन अपने योनि स्राव की जांच करेंगी कि क्या आपके गर्भाशय ग्रीवा से स्राव हो रहा है। गर्भवती होने से बचने के लिए, आपको गर्भाशय ग्रीवा स्राव वाले दिन और अगले दिन असुरक्षित यौन संबंध बनाने से बचना चाहिए। यदि आप यौन संबंध बनाने का निर्णय लेते हैं, तो आपको स्राव साफ होने तक कंडोम जैसे किसी अन्य गर्भनिरोधक का उपयोग करना चाहिए।

बसल बॉडी टेंपरेचर (बीबीटी) मैथड। यह एक महिला के शरीर के तापमान का उपयोग यह निर्धारित करने के लिए करता है कि उसके जननक्षम होने की संभावना कब है। ओव्यूलेशन के बाद, एक महिला के शरीर का सामान्य तापमान थोड़ा बढ़ जाता है। शरीर के तापमान में वृद्धि के तीन दिन बाद से लेकर आपके अगले मासिक धर्म की शुरुआत तक के बीच की अवधि में आपके गर्भवती होने की संभावना नहीं है। इस तरीके के लिए, आपको यह निर्धारित करने के लिए हर सुबह अपने शरीर के तापमान का पता करना होगा कि आप ओव्यूलेट कर रही हैं या नहीं। आप हर सुबह खड़े होने से पहले अपना तापमान लेंगे और इसे एक चार्ट पर रिकॉर्ड करेंगे। यह तरीका तब सबसे प्रभावशाली होता है जब इसे सिम्टोथर्मल तरीका या स्टैंडर्ड डे मैथड (1) के साथ संयोजन में उपयोग किया जाता है।

ओव्यूलेशन तरीका। इसे सर्वाइकल म्यूकस या बिलिंग विधि के रूप में भी जाना जाता है, इसमें एक महिला की जननक्षम विंडो की शुरुआत और अंत की पहचान करने के लिए गर्भासय ग्रीवा श्लेष्मा का अवलोकन शामिल है। अधिकांश दिनों में, एक महिला का गर्भाशय ग्रीवा श्लेष्मा गाढ़ा और चिपचिपा होता है, लेकिन जब आप ओव्यूलेट कर रही होती हैं तो यह पानी वाला और फिसलन भरा हो जाता है। आपको प्रतिदिन अपने ग्रीवा श्लेष्मा की जांच करने की आवश्यकता होती है। आप अपने स्राव की शुरुआत से (जब आपका गर्भाशय ग्रीवा श्लेष्मा साफ, लचीला, फिसलनदार और गीला होता है) उसके बंद होने के तीन दिन बाद तक गर्भवती हो सकती हैं। इस विधि का उपयोग बसल बॉडी टेंपरेचर या मानक दिनों के तरीके के साथ करने से इसकी प्रभावशीलता बढ़ जाती है (5)।

सिम्पटो-थर्मल मैथड(लक्षण आधाित-तापमान तरीका)। यह तरीका आपके गर्भवती होने के दिनों की भविष्यवाणी करने के लिए कई प्रजनन जागरूकता तरीकों को जोड़ती है। आपके शरीर में कई संकेत हैं जो बताते हैं कि आप गर्भवती हो सकते हैं, और यह तरीका उनमें से कई का एक साथ पता करता है। इसमें यह शामिल है कि आपकी गर्भाशय ग्रीवा कितनी खुली महसूस होती है, आपके शरीर का बुनयादी तापमान और आपका गर्भाशय ग्रीवा श्लेष्मा। दो या दो से अधिक तरीकों का उपयोग करने से आपको गर्भावस्था को बेहतर ढंग से रोकने में मदद मिलेगी (7)।

प्रजनन जागरूकता के तरीके कितने प्रभावशाली हैं?

– प्रजनन जागरूकता के तरीके बहुत प्रभावशाली नहीं हैं। जब पूरी तरह से अभ्यास किया जाता है तो वे सबसे अच्छा काम करते हैं (8)।
– पूरी तंरह से उपयोग के साथ, वे 95-99% प्रभावशाली होते हैं। सामान्य उपयोग के साथ, वे 76-88% प्रभावशाली होते हैं (9)।

प्रत्येक प्रजनन जागरूकता तरीका कितना प्रभावशाली है, इसकी जानकारी के लिए नीचे दिए गए चार्ट को देखें।

प्रजनन जागरूकता के तरीके कब एक अच्छा विकल्प हैं?

अगर आप अपने शरीर को बेहतर तरीके से जानने की कोशिश कर रहे हैं। प्रजनन जागरूकता विधियाँ आपके शरीर के पैटर्न को खोजने का एक अच्छा तरीका है। आप कोई भी बदलाव देखेंगे और अपने मासिक धर्म चक्र को बेहतर ढंग से समझ पाएंगे।

अगर आपको गर्भवती होने में कोई आपत्ति नहीं है। यदि आप इन तरीकों का सही ढंग से उपयोग नहीं करते हैं, तो उनकी विफलता दर अधिक हो जाती है। यदि आप प्रजनन जागरूकता के तरीकों का पता लगाने के इच्छुक हैं, तो कंडोम जैसे अतिरिक्त तरीके का उपयोग करने की सलाह दी जाती है, जबकि आप अभी भी अपने कैलेंडर और/या लक्षणों को पता करना सीख रहे हैं। लेकिन यदि आप प्रजनन-जागरूकता को जानने में बहुत अच्छे नहीं हैं और गर्भवती होना आपके लिए एक समस्या होगी, तो गर्भनिरोधक का कोई अन्य तरीका चुनने पर विचार करें।

यदि आपमें पूर्ण आत्म-अनुशासन है। इस तरीके का पालन करने के लिए आपको और आपके साथी दोनों को सहमत होना होगा। आपको अपने शरीर को भी अच्छे से जानना होगा।

यदि आप अपने चक्र के भीतर एक निश्चित अवधि के लिए सेक्स न करने या अपनी जननक्षम अवधि के दौरान किसी अन्य रुकावट वाले तरीके का उपयोग करने से सहमत हैं। तो इस तरीके से, आपको हर महीने उन दिनों को पता करना होगा जब आप गर्भवती हो सकती हैं। उन दिनों, आपको या तो सेक्स से बचना होगा या जन्म नियंत्रण का गैर-हार्मोनल तरीके का उपयोग करना होगा। यदि आप यौन संबंध न बनाने या जन्म नियंत्रण की किसी अन्य तरीके का उपयोग करने से सहमत नहीं हैं, तो प्रजनन जागरूकता-आधारित तरीकों का उपयोग न करें।

अगर आप कोई ऐसा तरीका चाहते हैं जिसका कोई दुष्प्रभाव न हो। यह विधि आपके शरीर में अतिरिक्त हार्मोन नहीं जोड़ती है। इस तरीके का उपयोग करने वाले बहुत से लोग कुछ ऐसा चाहते हैं जिसका उनके शरीर पर कोई प्रभाव न पड़े।

प्रजनन जागरूकता तरीकों का चार्ट

Contraception Quiz

Not sure on the method? - Take our dynamic Contraception Quiz.
When it comes to sex, protection is as important as pleasure. But what should one do to start their safe sex journey? Answer some simple questions and based on the responses, we will recommend the next steps.

Take the quiz
External Condom

Compare with similar Contraceptive Methods

Are you wondering if condoms are better than daily pills? Or if you should opt for a birth control implant? We're here to assist you in making this decision. You can select up to 5 contraceptive methods and compare them side by side to weigh the pros and cons of each.

Give a try to our Contraceptive Tool

In the example below, you'll find similar methods to the one you're currently reading about. Feel free to click on any that catch your interest or revisit our Contraceptive Methods page

Our Monthly Top Articles

भारत में कुछ डॉक्टर आपको गर्भनिरोधक के अधिकार से वंचित क्यों करते हैं?

भारत में कुछ डॉक्टर आपको गर्भनिरोधक के अधिकार से वंचित क्यों करते हैं?

जनसंख्या के मामले में भारत एक फलता-फूलता देश है। फिर भी, यहां गर्भनिरोधक को बच्चे कब पैदा करने हैं ये प्लान बनाने के तरीके के बजाय नियंत्रित करने का एक तरीका माना जाता है। आइए भारत में गर्भनिरोधक प...

हार्मोन और गर्भनिरोधन #debunkTheMyth

हार्मोन और गर्भनिरोधन #debunkTheMyth

आज के समय में इंटरनेट जानकारियों का भंडार है और हमें सभी आवश्यक जानकारियां तुरंत प्रदान करता है, लेकिन बहुत सी बार हमें इंटरनेट से जानकारियों की बजाय मिथक प्राप्त होते हैं, जब हम हार्मोन और गर्भनिर...

भारत में कुछ डॉक्टर आपको गर्भनिरोधक के अधिकार से वंचित क्यों करते हैं?

भारत में कुछ डॉक्टर आपको गर्भनिरोधक के अधिकार से वंचित क्यों करते हैं?

जनसंख्या के मामले में भारत एक फलता-फूलता देश है। फिर भी, यहां गर्भनिरोधक को बच्चे कब पैदा करने हैं ये प्लान बनाने के तरीके के बजाय नियंत्रित करने का एक तरीका माना जाता है। आइए भारत में गर्भनिरोधक प...

हार्मोन और गर्भनिरोधन #debunkTheMyth

हार्मोन और गर्भनिरोधन #debunkTheMyth

आज के समय में इंटरनेट जानकारियों का भंडार है और हमें सभी आवश्यक जानकारियां तुरंत प्रदान करता है, लेकिन बहुत सी बार हमें इंटरनेट से जानकारियों की बजाय मिथक प्राप्त होते हैं, जब हम हार्मोन और गर्भनिर...

इस तरह मैंने ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट’ की शुरुआत की।

इस तरह मैंने ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट’ की शुरुआत की।

हर किसी को थोड़ा प्यार और आनंद चाहिए; और हर एक व्यक्ति इसे अलग-अलग तरीकों से प्राप्त करना चाहता है। हवा में, मुझे फुसफुसाहट सुनाई देती है: फ्रेंड्स विद बेनेफिट। हां! मैं चीख उठी। हा! फ्रेंड्स विद बे...