बाहरी कॉन्डोम (पुरुष)

पुरुष कंडोम गर्भनिरोधक तरीके हैं जिनका उपयोग गर्भावस्था और एसटीआई को रोकने के लिए किया जाता है। पुरुषों के लिए कंडोम का उपयोग कैसे करें, इसे बाहरी कंडोम के रूप में भी जाना जाता है, इसके बारे में पढ़ें।
बाहरी कॉन्डोम (पुरुष)

सारांश

बाहरी कॉन्डोम– ये पुरुषों के कॉन्डोम के नाम से जाने जाते हैं– गर्भावस्था को रोकने और यौन संचारित संक्रमणों (एसटीआई) के प्रति सुरक्षा प्रदान करने के सबसे लोकप्रिय तरीकों में से एक है। इसे सिर्फ लिंग पर लगाएं। बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) शुक्राणु को कॉन्डोम के भीतर और योनि, गुदा या मुँह से बाहर रख कर एसटीआई के जोखिम को कम करते हैं। (आंतरिक कॉन्डोम (महिला) भी हैं जो योनि या गुदा के भीतर जाते हैं।) बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) सैंकड़ों प्रकार एवं आकार में मिलते हैं। आप इसे लूब (चिकनाई) के साथ या उसके बिना भी खरीद सकते हैं।
बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) के प्रकारः
शुक्राणुनाशक (शुक्राणुरोधी मलहम) । ये कॉन्डोम शुक्राणु को मारने वाले रसायन से चिकने (लुब्रिकेटेड) बनाए जाते हैं। मौखिक (ओरल) या गुदा (एनल) यौन संबंध के लिए इनके प्रयोग की अनुशंसा नहीं की जाती।
शुक्राणुनाशक– मुक्त (शुक्राणुरोधी मलहम –फ्री) । यदि आप या आपका पार्टनर शुक्राणुरोधी मलहम के प्रति संवेदनशील है तो शुक्राणुरोधी मलहम –मुक्त कॉन्डोम का प्रयोग करें। कॉन्डोम के बहुत कम दुष्प्रभाव होते हैं। इस प्रकार में तो बहुत ही कम।
लेटेक्स। लेटेक्स कॉन्डोम को 800% तक फैलाया जा सकता है। ये सबसे सामान्य कॉन्डोम हैं। लेकिन तेल–आधारित स्नेहकों के साथ इनका प्रयोग न करें। तेल– आधारित स्नेहक कॉन्डोम को तोड़ या फिसला सकता है जिससे आपके गर्भधारण करने या एसटीआई से संक्रमित होने के जोखिम बढ़ जाते हैं।
नॉन– लेटेक्स (लेटेक्स– मुक्त) । यदि आपको लेटेक्स या तेल– आधारित स्नेहकों से एलर्जी है तो लेटेक्स–मुक्त कॉन्डोम का विकल्प देखें। आमतौर पर ये पॉलीयूरेथेन, अन्य सिंथेटिक उच्च तकनीकी सामग्रियों या प्राकृतिक भेड़ की खाल से बनाया जाता है।

त्वरित तथ्य

  • बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) एचआईवी समेत एसआईटी के प्रति सुरक्षा प्रदान करता है। इसे खरीदने के लिए डॉक्टर की पर्ची की आवश्यकता नहीं होती, ये किफायती या मुफ्त और आसानी से मिल जाते हैं।
  • प्रभावकारिताः जब सही तरीके से प्रयोग किया जाएगा तब प्रत्येक 100 व्यक्तियों में से 98 व्यक्ति गर्भधारण को रोकने में सफल रहेंगे। लेकिन ज्यादातर लोग सटीक तरीके से कॉन्डोम का प्रयोग नहीं करते– ऐसे मामलों में, इस विधि का प्रयोग करने वाले प्रत्येक 100 व्यक्तियों में से सिर्फ 82 व्यक्ति ही गर्भधारण को रोकने में सफल हो पाएंगे।
  • दुष्प्रभाव (साइड इफेक्ट): आमतौर पर कुछ नहीं। जबतक कि आपको लेटेक्स या शुक्राणुरोधी मलहम (शुक्राणुनाशक) एलर्जी न हो।
  • प्रयासः उच्च। प्रत्येक बार यौन संबंध बनाते समय आपको नए कॉन्डोम का प्रयोग करना होगा।

विवरण

एसटीआई सुरक्षा। ज्यादातर बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) आपको एचआईवी समेत यौन संचारित संक्रमणों (एसटीआई ) के प्रति सुरक्षा प्रदान करता है। भेड़ की खाल से बने कॉन्डोम (लैम्बस्किन कॉन्डोम) ऐसे प्रकार का कॉन्डोम है जिस पर आपको एसटीआई से सुरक्षा प्रदान करने का भरोसा नहीं करना चाहिए। लैम्बस्किन कॉन्डोम शुक्राणु को तो ब्लॉक करते हैं लेकिन संक्रमणों को नहीं।
बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) के लिए प्रयास एवं प्रतिबद्धता चाहिए। पुरुष को प्रत्येक बार इसे अपने लिंग पर सही तरीके से लगाने की जरूरत होती है। प्रभावी होने के लिए कोई अन्य बात मायने नहीं रखती। कुछ मामलों में महिलाओं के लिए अपने पार्टनर से प्रत्येक बार और सही तरीके से इसके इस्तेमाल करने की मांग करना मुश्किल हो सकता है।
अधिक समय तक यौन संबंध बनाने में मदद कर सकता है। बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) संवेदनशीलता को कम सकता है। कुछ मामलों में यह अच्छी बात हो सकती है। (यदि आपको या आपके पार्टनर को जल्द स्खलन से परेशानी है तो कॉन्डोम अधिक समय तक यौन संबंध बनाने में मदद कर सकता है।)
सस्ता और मिलने में आसान। बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) सस्ते होते हैं और कभी– कभी तो आपको ये मुफ्त में भी मिल सकते हैं। आप इन्हें कहीं से भी प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलग– अलग प्रकारों में से चुनने का भी विकल्प होता है।
किसी पर्ची की आवश्यकता नहीं है। यदि आप यौन संबंध के बारे में डॉक्टर से बात करने में झिझक महसूस कर रहे हैं या आप उनसे मिलना ही नहीं चाहते तो आपको हमेशा बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) का प्रयोग करना चाहिए।
यदि लेटेक्स से एलर्जी है तो अच्छा नहीं है। यदि आपको लेटेक्स से एलर्जी है तो आपको लेटेक्स–मुक्त बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) का प्रयोग करने की जरूरत पड़ेगी। यदि आपको लेटेक्स– मुक्त कॉन्डोम नहीं मिलता तो दूसरी विधि को आजमाएं।

प्रयोग कैसे करें

बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) प्रयोग में बहुत आसान होते हैं। इनका सही तरीके से इस्तेमाल कैसे करें इस बारे में याद दिलाने के लिए हम नीचे कुछ टिप्स बता रहे हैं। और याद रखें– यदि आप सिर्फ कॉन्डोम का प्रयोग कर रहे हैं तो आपको प्रत्येक बार यौन संबंध बनाने से पहले इनका प्रयोग करना याद रखना होगा।
बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) कैसे लगाएं:

  1. सबसे पहले, शर्माएं नहीं। बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) लगाना योनि में लिंग डालने से पहले यौन उत्तेजना एवं इच्छा को बढ़ाने का हिस्सा हो सकता है। यदि आप अपने पार्टनर के साथ यौन संबंध के बारे में बात करने में सहज महसूस करते हैं तो यौन संबंध बनाने के दौरान खुशी बढ़ाने के लिए आप किस प्रकार कॉन्डोम का प्रयोग कर सकते हैं, इस पर चर्चा करें।
  2. कॉन्डोम का प्रयोग करने से पहले उसकी समापन तिथि जरूर जांच लें। कॉन्डोम खराब हो सकता है। जिन कॉन्डोम की समय सीमा समाप्त हो चुकी हो वे आसानी से फट सकते हैं।
  3. सुनिश्चित करें कि योनि से स्पर्श करने से पहले लिंग पर कॉन्डोम लगाई जा चुकी हो। प्री–कम– पुरुष के स्खलन से पूर्व उसके लिंग से रिसने वाला तरल पदार्थ– में शुक्राणु हो सकते हैं।
  4. हर बार नया कॉन्डोम। सुनिश्चित करें कि आपके पास अतिरिक्त कॉन्डोम उपलब्ध हो। एक ही कॉन्डोम को दोबारा प्रयोग में न लाएं।
  5. पैकेट खोलने के दौरान कॉन्डोम फट न जाए इसका ध्यान रखें। यदि यह फट जाए, टूटने लायक स्थिति में हो या बहुत अधिक सख्त हो तो उसे फेंक दें। दूसरे कॉन्डोम का प्रयोग करें।
  6. आप कॉन्डोम के भीतर बिना तेल वाले स्नेहक की एक या दो बूंद डाल सकते हैं।यह कॉन्डोम को आसानी से लगने में मदद करेगा और यह आपके पार्टनर के लिए अनुभव को अधिक सुखद बना देगा।
  7. यदि पुरुष का खतना नहीं किया गया है तो कॉन्डोम लगाने से पहले लिंक के उपरी त्वचा को पीछे की तरफ खींचना महत्वपूर्ण हो जाता है।
  8. वीर्य को इक्ट्ठा करने के लिए सिरे पर आधा– इंच छोड़ दें, फिर सिरे से हवा बाहर निकालने के लिए दबाएं।
  9. लिंग पर कॉन्डोम को तब तक रोल करें जब तक वह आसानी से रोल होता रहे।
  10. हवा के बुलबुले हों तो उन्हें बाहर निकाल लें। हवा के ये बुलबुले कॉन्डोम को तोड़ सकते हैं।
  11. रगड़ से बचने में मदद हेतु आप चाहें तो अधिक स्नेहक (lube) का प्रयोग करें।

बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) को कैसे निकालें

  1. सुनिश्चित करें कि मुलायम होने से पहले लिंग योनि से बाहर आ चुका हो।
  2. जब पुरुष योनि से लिंग बाहर निकालता है तब कॉन्डोम के बेस (आधार) को पकड़ कर रखना महत्वपूर्ण होता है। यह शुक्राणु को कॉन्डोम से बाहर निकल कर गिरने से रोकने में मदद करेगा।
  3. कॉन्डोम को दूर फेंक दें। इसे बच्चों और पालतू जानवरों से दूर रखें। इसे शौचालय में फ्लश न करें। यह आपके लिए प्लंबिंग (नलसाजी) संबंधी समस्या पैदा कर सकता है।
  4. महिला के योनि के पास दुबारा जाने से पहले पुरुष के लिंग को साबुन और पानी से साफ किया जाना चाहिए।

दुष्प्रभाव

प्रत्येक व्यक्ति अलग होता है। आपने जो अनुभव किया वही दूसरा भी करे, ऐसा जरूरी नहीं।
सकारात्मक पक्षः बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) के बारे में ऐसी कई बातें हैं जो आपके शरीर के साथ– साथ आपके यौन जीवन के लिए भी अच्छी हैं।

  • एचआईवी समेत एसटीआई से सुरक्षा प्रदान करता है।
  • सस्ता और मिलने में आसान
  • इसके लिए डॉक्टर की पर्ची जरूरी नहीं
  • समय से पहले स्खलन की समस्या को दूर करने में मदद कर सकता है।

नकारात्मक पक्षः

  • जब कि आपको लेटेक्स से एलर्जी न हो, तब तक बाहरी कॉन्डोम (पुरुष) कोई शारीरिक दुष्प्रभाव नहीं डालता ।
    • 100 में से सिर्फ 1 या 2 व्यक्ति को ही एलर्जी होती है। यदि आप उनमें से एक हैं तो आप हमेशा लेटेक्स–मुक्त कॉन्डोम का प्रयोग कर सकते हैं।
  • कुछ व्यक्ति स्नेहक के विशेष ब्रांड के प्रति संवेदनशील हो सकते हैं। यदि ऐसा होता है तो दूसरे ब्रांड के कॉन्डोम को आजमाएं।
  • कुछ पुरुष कॉन्डोम से संवेदनशीलता के कम होने की शिकायत करते हैं।
  • यदि आपने शराब पी रखी है तो कॉन्डोम का प्रयोग करना याद रखना मुश्किल हो सकता है। बहुत संभावना है कि आप इन्हें अपने पास रखना भी भूल जाएं।

संदर्भ

[1] CATIE Canadian AIDS Treatment Information Exchange. (2013). Condoms for the prevention of HIV and STI transmission. Toronto . Retrieved from https://www.catie.ca/ga-pdf.php?file=sites/default/files/condoms-en.pdf

[2] Dr Marie Marie Stopes International. (2017). Contraception. Retrieved from http://www.mariestopes.org.au/wp-content/uploads/Contraception-brochure-web-200417.pdf

[3] FPA the sexual health charity. (2019). Your guide to condoms. Retrieved from http://www.fpa.org.uk/sites/default/files/condoms-external-and-internal-your-guide.pdf

[4] Festin MR. (2013). Non-latex versus latex male condoms for contraception.The WHO Reproductive Health Library; Geneva: World Health Organization. Retrieved from https://extranet.who.int/rhl/topics/fertility-regulation/contraception/non-latex-versus-latex-male-condoms-contraception

[5] IPPF and UNFPA. (2010). MYTHS, MISPERCEPTIONS AND FEARS: ADDRESSING CONDOM USE BARRIERS. New York . Retrieved from http://bibliobase.sermais.pt:8008/BiblioNET/Upload/PDF4/002988.pdf

[6] Lopez, et al. (2014). Behavioral interventions for improving condom use for dual protection. Cochrane Database of Systematic Reviews 2013, Issue 10. Art. No.: CD010662. DOI: 10.1002/14651858. CD010662.pub2 Retrieved from https://extranet.who.int/rhl/topics/fertility-regulation/contraception/behavioural-interventions-improving-condom-use-dual-protection

[7] Stover, et al. (2017) The case for investing in the male condom. PLoS ONE 12(5): e0177108. Retrieved fromhttps://journals.plos.org/plosone/article/file?id=10.1371/journal.pone.0177108&type=printable

[8] Society of Obstetricians and Gynaecologists of Canada. (2015). Canadian Contraception Consensus Chapter 5: Barrier Methods. JOGC Journal of Obstetrics and Gynaecology Canada , 37. Retrieved from https://www.jogc.com/article/S1701-2163(16)39376-8/pdf

[9] Shoupe, D. (2016). Barrier Contraceptives: Male Condoms, Vaginal Spermicides, and Cervical Barrier Methods. En D. Shoupe, The Handbook of Contraception: A Guide for Practical Management. Retrieved from http://eknygos.lsmuni.lt/springer/677/147-177.pdf

[10] World Health Organization Department of Reproductive Health and Research and Johns Hopkins Bloomberg School of Public Health Center for Communication Programs (2018) Family Planning: A Global Handbook for Providers. Baltimore and Geneva. Retrieved from https://apps.who.int/iris/bitstream/handle/10665/260156/9780999203705-eng.pdf?sequence=1

[11] World Health Organization. (2016). Selected practice recommendations for contraceptive use. Geneva. Retrieved fromhttps://apps.who.int/iris/bitstream/handle/10665/252267/9789241565400-eng.pdf?sequence=1