प्रसव के बाद गर्भनिरोधन

आपके घर में एक शिशु आने वाला है! आप खुश हैं, आप तनावग्रस्त हैं, आप उत्साहित हैं, और आप पूरी तरह से एक नए जीवन में प्रवेश की तैयारियां कर रही हैं।

भावनाओं (और हार्मोन) की इस उथल-पुथल के बीच – हो सकता है कि आपको प्रसव के बाद गर्भनिरोधन के बारे में सोचने का समय ही न मिले। लेकिन शिशुजन्म के तुरंत बाद आप कभी नहीं चाहेंगी कि आपको एक अनचाही गर्भावस्था का सामना करना पड़े।

लेकिन गर्भनिरोधन के विभिन्न उपायों में से किसी एक को चुनना भी काफी मुश्किल भरा काम हो सकता है। आपके और आपके शिशु के लिए क्या सुरक्षित है? स्तनपान और गर्भनिरोधन किस प्रकार से काम करते हैं? आप किसी विधि का इस्तेमाल करना कब शुरू कर सकती हैं? ओह-कितना कुछ सोचना है!

हम आपकी दुविधा समझते हैं। इसीलिए फाइंड माई मेथड की टीम ने आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प चुनने में आपकी मदद करने के लिए इस व्यापक मार्गदर्शिका को संकलित करने का निर्णय लिया है।

 

मुझे प्रसव के बाद गर्भनिरोधकों का उपयोग किस समय शुरू करना चाहिए?

बहुत सी महिलाएं शिशु जन्म के बाद जल्द ही दोबारा उर्वर हो जाती है, इसलिए नवजात शिशु को घर ले जाने के साथ ही आपको गर्भनिरोधक गोलियां लेनी शुरू कर देनी चाहिए, यह आपको बहुत सी चिंताओं और परेशानियों से बचाएगा।

एक बच्चा हो जाने के बाद – विशेषज्ञों के अनुसार – दूसरे गर्भधारण के लिए कम से कम एक साल तक इंतजार करना चाहिए। यह समय आपको शरीर को वापस से अपनी शक्ति प्राप्त करने और आपकी वर्तमान उर्जा को पूरी तरह से नवजात शिशु की देखभाल में लगाने में मदद करता है। सौभाग्य से, आपके पास ऐसे बहुत से विकल्प उपलब्ध हैं जो प्रसव के बाद इस्तेमाल करने के लिए पूरी तरह से सुरक्षित हैं और आप स्तनपान करवाते हुए भी इनका उपयोग कर सकती हैं।

 

तो यदि आप शिशुजन्म के तुरंत बाद इस्तेमाल करने वाली विधियों की तलाश में हैं तो ये विधियां आपके लिए सबसे अच्छी हैं

कॉपर आई.यू.डी. या हार्मोनल आई.यू.डी.

कॉपर और हार्मोनल आई.यू.डी. दोनों सुविधाजनक, सुरक्षित और प्रभावी हैं- और दोनों प्रकार की आई.यू.डी. को प्रसव के तुरंत बाद डाला जा सकता है। जब प्रसव के तुरंत बाद आई.यू.डी. लगाई जाती है, तो इसके बाहर निकलने का खतरा अधिक होता है, कुछ हफ्तों के बाद लगाने पर यह खतरा कम हो जाता है, लेकिन यदि आप दोबारा चिकित्सक के पास जाने के झंझट में नहीं पड़ना चाहती हैं तो आपको इसे प्रसव के तुरंत बाद लगवा लेना चाहिए।

 

प्रत्यारोपण या इंप्लांट

प्रसव के तुरंत बाद प्रत्यारोपण या इंप्लांट करवाना बहुत आसान और पूरी तरह से सुरक्षित है। यदि आपको अस्पताल में थोड़े दिनों के लिए रहना पड़ रहा है तो आपको डिस्चार्ज करने से कुछ समय पहले यह इंप्लांट लगाया जा सकता है।

 

इंजेक्शन लगाने योग्य

ज्यादातर अस्पतालों में डिस्चार्ज होने से पहले एक इंजेक्शन लगाना एक आसान प्रक्रिया होती है, इसलिए यह अस्थायी या लंबे समय तक के गर्भनिरोधन के लिए एक बढ़िया विकल्प हो सकता है। अब चूंकि इंजेक्टेबल का प्रभाव 12 सप्ताह तक रहता है, इसलिए आप इसे अस्पताल से डिस्चार्ज होते समय लगवा सकती हैं और 6 हफ्ते के बाद जब आप वापस अस्पताल जाएं तो आप किसी और बेहतर विकल्प को अपना सकती हैं।

 

गोली (केवल प्रोजेस्टिन) या POP

रोजाना एक ही समय पर ली जाने वाली POP नई माताओं के लिए एक बेहतरीन विकल्प है और स्तनपान करवाने वाली माताएं भी इसका उपयोग कर सकती है। कोई भी महिला, चाहे वह किशोरावस्था में हो या उनकी उम्र 40 साल से अधिक हो, इस विधि का उपयोग कर सकती है। इसके अलावा, यह विधि पूरी तरह से आपके नियंत्रण में रहती है, आप जब चाहें इसका इस्तेमाल करना बंद कर सकती हैं।

 

कंडोम ( महिला और पुरुष शरीर के लिए) भी एक सुरक्षित विकल्प है और इनका इस अवधि में इस्तेमाल किया जा सकता है।

क्या आप जानती हैं कि स्तनपान को भी गर्भनिरोधन के एक साधन के रूप में काम में लिया जा सकता है? इस स्थिति को “लैक्टेशनल अमेनोरिया” कहा जाता है, साधारण शब्दों में इसका अर्थ यह है कि स्तनपान करवाते रहने पर आपका गर्भधारण नहीं हो सकता है। चूंकि आपके शरीर में दुग्ध बन रहा है, ऐसा करने के लिए प्रोलेक्टिन नामक हार्मोन जिम्मेदार होता है, यह हार्मोन अंडोत्सर्ग को भी संदमित कर देता है। लेकिन यदि आप इस विधि का इस्तेमाल करना चाहती हैं तो सबसे पहले इसे अच्छी तरह से समझ लें; यह प्रसव के बाद पहले 6 महीनों के दौरान सबसे प्रभावी है, जब तक कि आपकी माहवारी दोबारा शुरू नहीं होती है और आप पूरी तरह से या लगभग पूरी तरह से स्तनपान करवा रही होती हैं (यानी बच्चे को कोई फॉर्म्यूला या ठोस खाद्य नहीं दिया जा रहा होता है), यह विधि प्रभावी मानी जाती है।

 

यदि आप स्तनपान नहीं करवा रही हैं तो तीसरे सप्ताह के बाद और यदि आप स्तनपान करवा रही हैं तो छठवें सप्ताह के बाद

संयुक्त गर्भनिरोधक गोली

इसमें प्रोजेस्टिन और एस्ट्रोजन की कम खुराक होती है जो अंडाशय से अंडों को निकलने से रोकती है। हर दिन एक गोली लें और प्रभावशीलता को बेहतर बनाने के लिए प्रत्येक नए पैकेज को समय पर शुरू करें, इसके अलावा, आप महीने के किसी भी समय COC लेना शुरू कर सकती हैं और अपनी इच्छानुसार इसका उपयोग बंद कर सकती हैं।

पैच

यह छोटा, पतला, चौकोर चिपकने वाला पैच गर्भधारण को रोकने में सक्षम होता है, आप इसे अपनी कमर, पेट और उदर भाग पर लगा सकती हैं। 3 सप्ताह तक हर सप्ताह एक नए पैच का इस्तेमाल करें और इसके बाद चौथे सप्ताह से पैच की आवश्यकता नहीं होती है।

 

6 वें सप्ताह के बाद
प्रसव के बाद कम से कम छह सप्ताह के लिए डायाफ्राम और सर्वाइकल कैप से बचना ही सही रहता है क्योंकि गर्भावस्था के सामान्य परिवर्तन उपकरण के ठीक से फिट होने में बाधा बन सकते हैं। शिशुजन्म के बाद अक्सर योनि की हालत खराब होती है, इसलिए आप शुक्राणुनाशक का भी उपयोग करना नहीं चाहेंगी।

 

हार्मोनल का उपयोग करें या हार्मोन रहित का?

इस मिथक पर बिल्कुल भी विश्वास न करें कि स्तनपान करवाने वाली महिलाएं हार्मोनल गर्भनिरोधन विधियों का इस्तेमाल नहीं कर सकती हैं! बहुत से अध्ययनों में यह सिद्ध हुआ है कि इससे आपको और आपके बच्चे को कोई नुकसान नहीं होगा।. ऊपर सूचीबद्ध किए गए सभी तरीके, चाहे वे हार्मोनल हो या हार्मोन रहित, उपयोग के लिए पूरी तरह से सुरक्षित हैं।

जन्म देने के बाद पहले तीन हफ्तों तक, एस्ट्रोजन हार्मोन की उपलब्धता (जैसे कि गोली, पैच, या रिंग)वाली विधियों का उपयोग न करें। तीन सप्ताह के बाद, आप इनमें से किसी भी विधि का इस्तेमाल करना शुरू कर सकती हैं।

प्रसव के बाद इस्तेमाल किए जाने वाली कुछ लोकप्रिय विधियों के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें:
हार्मोनल आई.यू.डी.
इंजेक्शन लगाने योग्य
प्रत्यारोपण या इंप्लांट

 

क्या आप लंबे, मध्यम या अल्पकालिक समाधान की तलाश में हैं?

यदि आप लंबे समय तक इंतजार करना चाहती हैं, या फिर आप आगे बच्चे पैदा नहीं करना चाहती हैं, तो कॉपर आई.यू.डी. आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प रहेगा। आई.यू.डी. 99% प्रभावी होती है और यदि आप इसके बाद कभी गर्भधारण करना चाहती हैं तो आपको बस इसे निकलवाना होता है और आप फिर से गर्भधारण कर सकती हैं, आई.यू.डी. आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं करती है।

यदि आप 3-5 साल तक इंतजार करना चाहती हैं, तो आप हार्मोनल आई.यू.डी. या इंप्लांटका सहारा ले सकती हैं। ये दोनों विधियां पेट में मरोड़ों को कम करती हैं और आपकी माहवारी भी कुछ हद तक आसान हो जाती है, कुछ महिलाओं में बिल्कुल भी रक्तस्त्राव नहीं होता है, ये विधियां बहुत अधिक प्रभावी होती हैं।

यदि आप छोटी अवधि के लिए या अस्थायी विधि की तलाश कर रही हैं तो इंजेक्शन या POP आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प साबित होगा।

इंजेक्शन लगाने के लिए आपको हर 2-3 महीने में एक बार चिकित्सक के यहां जाने की आवश्यकता होती है, क्योंकि यह केवल इंजेक्शन के रूप में उपलब्ध होता है और लगाने की प्रक्रिया गोपनीय होती है। यदि हर दिन एक ही समय पर लिया जाए तो POP की विधि बहुत प्रभावी होती है और सबसे अच्छी बात यह है कि आप जब चाहे इसे शुरू कर सकती हैं और अपनी इच्छानुसार इसे बंद कर सकती हैं।

अधिक जानकारी के लिए और हमारे गर्भनिरोधक खोजक को आज़माने के लिए https://findmymethod.org/hi/find-my-method/ पर विजिट करें। आपको अपने शरीर के लिए तथा अपनी जीवनशैली के अनुसार क्या पसंद है, उस अनुसार आप विभिन्न विकल्पों में तुलना कर सकती हैं और निर्णय लेने की प्रक्रिया आसान हो जाती है।

यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पर हमारे सोशल मीडिया अकाउंट के माध्यम से हमसे बेहिचक संपर्क करें, या यदि आप चाहें, तो info@findmymethod.org पर ई-मेल भेजें


References: