गर्भनिरोधक पट्टी - Find My Method
 

अंतिम बार संशोधित किया गया मार्च 31st, 2021

birth-control-patch
  • प्रयोग में आसान और गोली की तरह काम करता है। आपको प्रत्येक सप्ताह नए पट्टी (पैच) का प्रयोग करना होता है।

  • प्रभावकारिताः ज्यादातर लोग जिस तरह से इसका प्रयोग करते हैं, वह बहुत प्रभावी होता है। सटीक प्रयोग के साथ इस्तेमाल करने वाली प्रत्येक 100 महिलाओं में 99 महिलाएं गर्भवती होने से बची रहीं।

  • दुष्प्रभावः मतली, अनियमित रक्तस्राव, स्तन में दर्द सबसे आम है लेकिन आमतौर पर यह अस्थायी होते हैं।

  • प्रयासः मध्यम। आपको प्रत्येक सप्ताह एक नए पट्टी (पैच) के प्रयोग की आवश्यकता होती है।

  • यौन संचारी संक्रमणों (एसटीआई) के प्रति सुरक्षा प्रदान नहीं करता

सारांश

गर्भनिरोधक पट्टी

पट्टी (पैच) प्लास्टिक का पतला टुकड़ा है जो बैंड–एड जैसा वर्गाकार दिखता है। यह 5 सेमी से थोड़ा छोटा होता है। आप अपनी त्वचा पर पट्टी (पैच) लगाते हैं और यह आपके शरीर में ऐसे हार्मोन्स भेजता है जो आपके अंडाशय को अंडे जारी करने से रोकता है। हार्मोन्स गर्भाशय ग्रीवा के श्लेष्म को भी गाढ़ा कर देते हैं जो शुक्राणुओं को अंडों से मिले से रोकने में मदद करता है।

विवरण

गोली के मुकाबले इसमें कम प्रयास करना होता है और इसमें सूईयों की भी जरूरत नहीं पड़ती। यदि आप रोजाना एक गोली नहीं खाना चाहतीं तो पट्टी (पैच) अच्छा विकल्प हो सकता है। आपको सिर्फ यह याद रखने की जरूरत है कि आपको प्रत्येक 7 दिनों पर एक नया पट्टी (पैच) इस्तेमाल करना है।

यदि आपका वजन 90 किलो से कम है तो पट्टी (पैच) आपके लिए सर्वोत्तम है। यदि आपका वजन 90 किलो या उससे अधिक हो तो आपको दूसरी गर्भनिरोधक विधि का प्रयोग करना चाहिए।

यदि आप पहले के जैसे ही मासिक धर्म चाहती हों। यदि आप चाहती हैं कि आपको प्रत्येक माह मासिक धर्म हो, बिना स्पॉटिंग के, तो पट्टी (पैच) अच्छा विकल्प हो सकता है।

आप 35 वर्ष से कम उम्र की हैं और धूम्रपान करती हैं। यदि आप 35 वर्ष से अधिक की हैं तो पट्टी (पैच) के प्रयोग के दौरान धूम्रपान करना कुछ विशेष दुष्प्रभावों का जोखिम बढ़ा सकता है।

आप गर्भनिरोधक विधि का प्रयोग बंद करना और जल्द गर्भवती होना चाहती हैं? आप पट्टी (पैच) को निकाले जाने के बाद जल्द ही गर्भवती हो सकेंगी। यदि आपने पट्टी (पैच) का प्रयोग करना बंद कर दिया है और गर्भवती होना नहीं चाहती हैं तो दूसरी विधि का प्रयोग करें।

प्रयोग कैसे करें

  • पट्टी (पैच) का प्रयोग करना बहुत सरल है। सबसे मुश्किल है प्रत्येक सप्ताह नए पट्टी (पैच) के इस्तेमाल करने की बात याद रखना। सिर्फ एक, नया पट्टी (पैच) प्रत्येक सप्ताह, लगातार तीन सप्ताह तक, लगाएं। चौथे सप्हात में पट्टी (पैच) का प्रयोग न करें।

  • आप अपने नितंब, पेट, ऊपरी भुजा के बाहरी हिस्से या शरीर के उपरी हिस्से पर लगा सकते हैं। अपने स्तनों पर इसे न लाएं।

  • बिना पट्टी (पैच) वाले सप्ताह के दौरान आपको मासिक धर्म आ सकता है। फिर से पट्टी (पैच) लगाए जाने के समय भी आपको रक्तस्राव होना जारी रह सकता है। यह सामान्य है। आप नया पट्टी (पैच) जरूर लगाएं।

  • पट्टी (पैच) के प्रयोग को सरल बनाने के लिए नीचे दिए गए सुझावों और युक्तियों को देखें।

टिप 1: यदि आपने अपने मासिक धर्म के पहले 5 दिनों के भीतर पट्टी (पैच) लगाया है तो तत्काल प्रभाव से गर्भ धारण करने से सुरक्षित हैं। यदि आपने बाद में लगाया है तो आपको सुरक्षित होने से पहले 7 दिनों तक प्रतीक्षा करनी होगी। इस समय में आपको बैकअप विधि का प्रयोग करना चाहिए।

टिप 2: आप किस जगह पर पट्टी (पैच) लगाना चाहती हैं, के बारे में ध्यान से सोचें। वह वहां पूरे सप्ताह रहेगा। आप ऐसे स्थान पर इसे लगाने से बचना चाहेंगी जहां की त्वचा ढीली हो या जहां झुर्रियां हों।

टिप 3: सबसे पहले प्लास्टिक के आधे हिस्से को खोलें, ताकि पकड़े के लिए बिना–चिपचिपा स्थान आपके पास हो।

टिप 4: पट्टी (पैच) के चिपचिपे हिस्से को अपनी उंगलियों से स्पर्श न करें।

टिप 5: अपने शरीर के चुने हिस्से पर पट्टी (पैच) को दबाएं। उसे 10 सेकेंड तक दबा के रखें ताकि वह अच्छे से और मजबूती से चिपक जाए।

टिप 6: आपने जिस स्थान पर पट्टी (पैच) लगाया है वहां बॉडी लोशन, तेल, पाउडर, क्रीम युक्त साबुन या मेकअप न लगाएं। ये पट्टी (पैच) को चिपके रहने से रोकती हैं।

टिप 7: प्रतिदिन अपने पट्टी (पैच) की जांच करें और सुनिश्चित करें कि वह सही तरीके से चिपका हुआ है।

टिप 8: पट्टी (पैच) के किनारों पर थोड़ी– बहुत मैल जम सकती है।

टिप 9: जब आप पट्टी (पैच) निकालें, उसे बीच से दो हिस्से करते हुए मोड़े और दूर फेंक दें। यह हार्मोन्स को मिट्टी से दूर रखने में मदद करेगा। इसे शौचालय में न फेंके।

दुष्प्रभाव

प्रत्येक व्यक्ति अलग होता है। जो अनुभव आपको हुआ वही दूसरों को भी हो ऐसा जरूरी नहीं।

सकारात्म पक्षः पट्टी (पैच) के प्रयोग के बारे में कई बातें हैं जो आपके शरीर के साथ– साथ आपके यौन जीवन के लिए भी अच्छी हैं।

  • प्रयोग में सरल– यह चिपकाने वाले टेप के टुकड़े को लगाने जैसा है।

  • इसका इस्तेमाल करने के लिए आपको यौन– संबंध में बाधा डालने की जरूरत नहीं है।

  • इसकी वजह से आपका मासिक धर्म अधिक नियमित, या कम समय का मासिक धर्म हो सकता है।

  • मुँहासो को दूर कर सकता है

  • मासिक धर्म के दौरान होने वाली ऐंठन और प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) के लक्षणों को कम कर सकता है।

  • स्वास्थ्य संबंधी कुछ समस्याओं जैसे एंडोमटेरियल और गर्भाशय कैंसर, लौह तत्व की कमी एनीमिया, गर्भाशय पुटिका और श्रोणी में सूजन की बीमारी के प्रति सुरक्षा प्रदान करता है।

नकारात्मक पक्षः प्रत्येक व्यक्ति नकारात्मक दुष्प्रभावों के बारे में चिंता करता है लेकिन कई महिलाओं के लिए ये कोई समस्या नहीं है। याद रखें, आप अपने शरीर में हार्मोन्स डाल रही हैं इसलिए उसे समायोजित होने में कुछ महीने लग सकते हैं। अपने शरीर को समय दें।

समस्याएं जो संभवतः दो से तीन महीनों में दूर हो जाएंगीः

  • दो मासिक धर्मों के दौरान रक्तस्राव, या स्पॉटिंग

  • स्तनों का ढीला पड़ना

  • मितली और उल्टी

समस्याएं जो लंबे समय तक चल सकती हैं–

  • त्वचा पर पट्टी (पैच) लगाए जाने के स्थान पर खुजली

  • आपकी यौन इच्छा में परिवर्तन

यदि 3 महीनों के बाद आप महसूस करते हैं कि दुष्प्रभाव आपकी उम्मीद से कहीं अधिक हैं तो विधि में परिवर्तन करें और सुरक्षित रहें। आपकी आवश्यकताओं के अनुसार विधि ढूंढ़ने के दौरान कॉन्डोम्स अच्छी सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं। याद रखें, प्रत्येक व्यक्ति के लिए, हर जगह एक विधि जरूर उपलब्ध होती है।

उपलब्धता। क्या आप इस विधि का प्रयोग करना पसंद करेंगी? Methods in Your Country देखें

*बहुत कम महिलाओं में गंभीर दुष्प्रभाव का जोखिम होता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्‍न

यहां हम आपकी मदद के लिए हैं। यदि यह अब भी अच्छा नहीं महसूस करा रहा तो हमारे पास अन्य विधियों के विकल्प भी हैं। याद रखें: यदि आपने विधि को बदलने का फैसला किया तो स्विच करने के दौरान खुद को सुरक्षित रखना सुनिश्चित करें। आपकी आवश्यकताओं के अनुसार विधि ढूंढ़ने के दौरान कॉन्डोम्स अच्छी सुरक्षा प्रदान करते हैं। यदि पट्टी (पैच) बार–बार गिर जाए तो क्या होगा?

  • पट्टी (पैच) अक्सर नहीं गिरा करते। लेकिन यदि पट्टी (पैच) गिर जाए तो इस बारे में परेशान न हों। यदि पट्टी (पैच) लगाए जाने के 24 घंटे से पहले गिर जाए तो आप उस पट्टी (पैच) को फिर से लगा सकती हैं और पट्टी (पैच) अभी भी चिपचिपा (स्टिकी) होगा। या आप नया पट्टी (पैच) भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

  • नहीं चिपकने वाले पट्टी (पैच) को लगाने के लिए बैंडेज, टेप या गोंद जैसी चीजों का प्रयोग न करें। आपको गर्भ धारण से बचाने वाले हार्मोन्स गोंद से मिल जाएंगे, इसलिए यदि वह नहीं चिपकता तो वह प्रभावी तरीका भी नहीं रह जाएगा।

  • इसे आजमाएं: आपने जहां पट्टी (पैच) लगाया है वहां की त्वचा पर किसी भी प्रकार का लोशन, तेल, पाउडर, क्रीम या दवा न लगाएं। स्नान के बाद लोशन या तेल का प्रयोग पट्टी (पैच) के चिपकने को भी प्रभावित करेगा।

  • अभी भी काम नहीं कर रहा? यदि यह बार– बार गिरता रहे तो आप शायद आप शरीर के भीतर डाली जाने वाली विधि को अपनाना चाहें। शायद इम्प्लान्ट, कोई आईयूडी या छल्ला (रिंग)

  • अन्य विधि आजमाएं: इम्प्लान्ट; आईयूडी; छल्ला (रिंग)

यदि मुझे पट्टी (पैच) को बदलना न याद रहे तो?

  • इसे आजमाएं: अपने फोन में रिमाइंडर लगाएं

  • अभी भी काम नहीं कर रहा? यदि आप रिमाइंडर का प्रयोग कर रही हैं और फिर भी आपको पट्टी (पैच) बदलना याद नहीं रहता तो आप शायद ऐसी विधि का प्रयोग करने पर विचार कर सकती हैं जिसमें आपको कई महीनों या वर्षों तक कुछ याद न रखना पड़े। शायद किसी प्रकार की सूई, इम्प्लान्ट या आईयूडी

  • अन्य विधि आजमाएं: इम्प्लान्ट; आईयूडी; सूई

यदि मुझे पट्टी (पैच) से त्वचा पर किसी प्रकार की खुजली हो तो क्या करूँ?

  • कुछ महिलाओं को चिपकने वाली चीजों से खुजली हो सकती है।

  • इसे आजमाएं: पट्टी (पैच) को किसी अन्य अनुशंसित स्थान पर लगाएं। इससे प्रभाव कम हो सकता है। यदि आप इसे एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाती रही हैं तो इसे एक ही स्थान पर बनाए रखने की कोशिश करें। यदि आपकी त्वचापर अभी भी खुजली होती है तो थोड़ी सी कोर्टिसोन क्रीम लगाएं। संभव है जल्द आराम मिले।

  • अभी भी काम नहीं कर रहा? यदि यह ठीक नहीं होता तो बिना गोंद वाले किसी दूसरी विधि के प्रयोग पर विचार करें। यहां कुछ विकल्प हैं जिन पर आपको पट्टी (पैच) से भी कम विचार करने की आवश्यकता हैः टीका, इम्प्लान्ट, आईयूडी, छल्ला (रिंग)

  • अलग विधि आजमाएं: इम्प्लान्टआईयूडीछल्ला (रिंग); टीका

यदि मुझे हार्मोन से दुष्प्रभाव पसंद नहीं तो क्या करना चाहिए?

  • कुछ महीनों तक पट्टी (पैच) का प्रयोग करें। इतने समय में दुष्प्रभाव कम हो सकते हैं।

  • अभी भी काम नहीं कर रहा है? आपमें अन्य हार्मोनल विधियों का ऐसा ही दुष्प्रभाव नहीं भी पड़ सकता है। समय के साथ स्थिति में सुधार नहीं होती तो छल्ला (रिंग) , टीका, आईयूडी या इम्प्लान्ट के प्रयोग पर विचार करें।

  • अलग विधि आजमाएं: इम्प्लान्ट, छल्ला (रिंग) , टीका

क्या पट्टी (पैच) पर्यावरण के लिए बुरा है?

  • जब बात पर्यावरण की हो तो एक भी विधि के न होने से किसी विधि का होना बेहतर होता है।

  • पट्टी (पैच) से कुछ हार्मोन्स महिला के मूत्र के माध्यम से पर्यावरण में प्रवेश करेंगें लेकिन पर्यावरण में एस्ट्रोजेन के अन्य स्रोतों की तुलना में यह कम होगा।

  • औद्योगिक एवं विनिर्माण प्रक्रियाओं, ऊर्वरकों एवं कीटनाशकों और पशुओं को दी जाने वाली दवा के एस्ट्रोजेन एक महिला के मूत्र के माध्यम से निकलने वाले एस्ट्रोजेन की मात्रा की तुलना में पर्यावरण में बड़ी मात्रा में प्रवेश करते हैं।

  • यदि आप पर्यावरण या अपने शरीर में हार्मोन्स का प्रवेश नहीं चाहते तो आपके लिए विकल्प उपलब्ध है। प्राकृतिक लैटेक्स कॉन्डोम और कॉपर आईयूडी दोनों ही अच्छे विकल्प हैं। आप जिसे भी चुनें उसे विधि को अपनाएं और उसका प्रयोग करती रहें।

  • अभी भी काम नहीं कर रहा? यदि आप बिना हार्मोन्स के बेहद प्रभावी विधि का प्रयोग करना चाहती हैं तो गैर–हार्मोनल आईयूडी का प्रयोग करें।

मेरा पट्टी (पैच) अपने चारो तरफ गहरा चिपचिपा वर्गाकार निशान क्यों बना लेता है?

  • परेशान होने की कोई आवश्यकता नहीं है, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपकी त्वचा पर पट्टी (पैच) को चिपकाए रखने वाला गोंद धूल और गंदगी को भी अपने में चिपका लेता है। पट्टी (पैच) के अपने स्थान पर लगे रहने के दौरान आपके करने के लिए बहुत कुछ नहीं होता। पट्टी (पैच) को निकालने या किनारों से गंदगी साफ करने की कोशिश न करें क्योंकि इससे पट्टी (पैच) के चिपकने की क्षमता समाप्त हो सकती है। पट्टी (पैच) को निकालने के बाद निशान पर थोड़ा सा तेल लगाएं और हल्के हाथों से रगड़ें। ऐसा करने से वे आसानी से निकल जाने चाहिए।

  • अभी भी काम नहीं कर रहा? यदि चिपकने वाली चीज आपको परेशान करती है और आप ऐसी गर्भनिरोधक विधि चाहती हैं जिसके बारे में हर बार यौन संबंध बनाने के समय या रोजाना याद न रखना पड़े तो आपको इम्प्लान्ट, आईयूडी, छल्ला (रिंग) या टीका जैसे विकिल्पों पर गौर करना चाहिए।

  • अलग विधि आजमाएं: इम्प्लान्ट, आईयूडी, छल्ला (रिंग) या टीका

References

[1] Cornell Health. (2019). The Contraceptive Patch. Cornell University , New York . Retrieved from https://health.cornell.edu/sites/health/files/pdf-library/the-patch.pdf
[2] Contraceptive Choice Center . (2015). Contraceptive Patch FACT SHEET. Washington University in St. Louis School of Medicine, Department of Obstetrics & Gynecology, St. Louis. Retrieved from https://contraceptivechoice.wustl.edu/wp-content/uploads/2015/07/Contraceptive-Patch-Fact-Sheet.pdf
[3] Dr Marie Marie Stopes International. (2017). Contraception. Retrieved from http://www.mariestopes.org.au/wp-content/uploads/Contraception-brochure-web-200417.pdf
[4] FSRH The Faculty of Sexual & Reproductive Healthcare. (Amended 2019). FSRH Guideline: Combined Hormonal Contraception. Retrieved from https://www.fsrh.org/standards-and-guidance/documents/combined-hormonal-contraception/
[5] FPA the sexual health charity. (2019). Your guide to the contraceptive patch. Retrieved from https://www.fpa.org.uk/sites/default/files/contraceptive-patch-your-guide-2019_0.pdf
[6] Galzote, et al. (2017). Transdermal delivery of combined hormonal contraception: a review of the current literature. International Journal of Women´s Health. Retrieved from https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5440026/
[7] Reproductive Health Access Project. (2015). THE PATCH. Retrieved from https://www.reproductiveaccess.org/wp-content/uploads/2014/12/factsheet_patch.pdf
[8] Society of Obstetricians and Gynaecologists of Canada. (2017). Canadian Contraception Consensus Chapter 9: Combined Hormonal Contraception. Retrieved from https://www.jogc.com/article/S1701-2163(16)39786-9/pdf
[9] World Health Organization Department of Reproductive Health and Research and Johns Hopkins Bloomberg School of Public Health Center for Communication Programs (2018) Family Planning: A Global Handbook for Providers. Baltimore and Geneva. Retrieved from https://apps.who.int/iris/bitstream/handle/10665/260156/9780999203705-eng.pdf?sequence=1
[10] World Health Organization. (2016). Selected practice recommendations for contraceptive use. Geneva. Retrieved from https://apps.who.int/iris/bitstream/handle/10665/252267/9789241565400-eng.pdf?sequence=1


lang हिन्दी